मैं ज्ञानानंद स्वभावी हूं



मैं ज्ञानानंद स्वभावी हूं, मैं ज्ञानानंद स्वभावी हूं ॥

 

मैं हूं अपने में स्वयं पूर्ण, पर की मुझमें कुछ गंध नहीं ।

मैं अरस, अरूपी, अस्पर्शी, पर से कुछ भी सम्बन्ध नहीं ॥

 

मैं रंग-राग से भिन्न भेद से, भी मैं भिन्न निराला हूं ।

मैं हूं अखंड चैतन्य-पिण्ड, निज-रस में रमने वाला हूं ॥

 

मैं ही मेरा कर्ता-धर्ता, मुझमें पर का कुछ का काम नहीं ।

मैं मुझमें रमने वाला हूं, पर में मेरा विश्राम नहीं ॥

 

मैं शुद्ध-बुद्ध अविरुद्ध एक, पर परिणति से अप्रभावी हूं ।

आत्मानुभूति से प्राप्त तत्त्व, मैं ज्ञानानंद स्वभावी हूँ ॥

 

먹튀검증

by GeorgeWam at 10:30 PM, Nov 23, 2022

10 e lotto immediato

by Antoniovax at 07:42 AM, Nov 23, 2022

Wow cuz this is excellent job! Congrats and keep it up. www

by Ignacio at 02:40 PM, Nov 22, 2022

Wow cuz this is excellent job! Congrats and keep it up. www

by Ignacio at 02:40 PM, Nov 22, 2022

1 Mobile Numero Assistnza

by RichardBloop at 12:42 PM, Nov 21, 2022

I enjoy this website - its so usefull and helpfull. link

by Harriet at 12:51 AM, Nov 04, 2022